Save girl child

CREATED BY ADARSH SADBHAYYE

Operating as usual

[06/07/17]   Very nice message
👳1 आदमी के 3 बेटे और
👸1 बेटी थी और विदेश में रहते थे
👵एक बार उनकी माँ
😨बहुत सिरियस बीमार हो गयी
👨उनके पिताजी अपने
☎पहले बेटे को फ़ोन किया
😭बेटा तुम्हारी माँ बहुत बीमार है
👍जल्दी से घर आजा
🚸बेटा बोला पापा मै 3 साल की
💪ट्रेनिंग पर हूँ , कृप्या
🔮आप उन दोनो भाइयो को
💛फ़ोन करके बुला लो,
🔮फिर पिता ने अपने
💘दुसरे बेटे को फ़ोन किया तो
🔮वो बोला मेरी पत्नी प्रेग्नेंट है
💝मै नहीं आ सकता ,
🔮आप उन दोनों भाइयों को
💖फोन कर के बुला लो ,
🔮फिर बाप ने तीसरे बेटे को
💗फ़ोन किया तो
🔮वो बोला मेरे तो इन्डिया आने के
❤सिर्फ 3 महीने बाकी हैं ,
🔮फिर ही आ पाउँगा
💚कृप्या आप उन दोनो भाइयों को
🔮फोन कर लो ,
💜बाप रो पड़ा
🔮जिस मां बाप ने बैंक से
💙लोन लेकर उन्हे विदेश भेजा
🔮आज वो ही इंकार कर रहे हैं
💔वे इतने Busy हैं कि
🔮मां तक को देखने नहीं आ सकता
💛वो खुद को संभाल नहीं सका
🔮उसने फिर अपनी बेटी को
💝फोन किया और
🔮मां के बारे में बताया
💖बेटी रो पड़ी कहा पापा
🔮आप संभालिये अपने आप को
💗मां को मैं और मेरा पति
🔮अभी पहली flight से
❤वहां पहुंच रहे हैं
🔮आप टेंशन न लें,
💘पिता अरे बेटा पर तेरे पति का
🔮Business का क्या होगा ??
💚बेटी क्या पापा इस वक्त भी
🔮आप ऐसी बात कर रहे हो
💔मां से ज्यादा क्या
💜काम जरूरी है क्या ????
🔮बस आप खुद को संभालो
💙आप मां को संभालो
🔮मैं भी प्रार्थना करती हूं भगवान से
💛वो मां को जल्दी ठीक कर देगा।
🔮सब अच्छा ही होगा पापा।।।
💝ख्याल रखना ….
🔮बाप सोचने लगा यही है
💖आज का युग
🔮हम बेटा मांगते हैं बेटी नहीं
💗पर आज बेटों ने आने से
🔮मना किया जिनके लिए
❤लोन लिया जिनकी
🔮हम किश्तें भर रहे हैं और
💚बेटी जिसे हमनें कभी मान नहीं दिया
🔮सम्मान ना दिया वो
💜अपने सभी काम छोड़कर
🔮पति के साथ उसके
💙काम काज व बिज़नेस की
🔮परवाह न करके अपने पति के साथ
💛सिर्फ मां के लिए आ रही है
🔮बाप फिर से रो पड़ा
💘कहा बेवकूफ हैं वे लोग जो
🔮बेटे की इच्छा रखते हैं
💔हर तकलीफ में सिर्फ बेटियाँ ही
👌वक्त पे काम आती हैं
👼ये प्यारी बेटियाँ
👧ये दुलारी बेटियाँ
🙏मां बाप का गुरूर हैं ये बेटियाँ
🌹Very true.

आवडला असेल तर पुढे पाठवा

20/08/2016

�PVSindhu� .. you have created history at such a young age .. we are all so proud of you .. you played your heart out .. congratulations .. and soon you shall be fulfilling your dream of the ultimate ..
All of India is proud of you

20/08/2016

मालिक" तू "साक्षी" है कि हमारे देश में महिलाओं की शक्ति प्रबल है ... उनका आदर सम्मान और उनकी रक्षा करना प्रत्येक नागरिक का फर्ज है ।
"Sakshi Malik" has won the first medal at the �#�Rio2016� Olympics in the wrestling .. proud to be an Indian, proud to live in India where women need respect, honor and dignity .. proud of Sakshi, she has made us all lift our heads in pride .

13/07/2016

Untitled Album

[03/03/16]   निकाल कर जिस्म से
अपनी जान दे देता है
बड़ा ही मजबूत है वो पिता
जो कन्यादान देता है

[01/31/16]   एक बेटी ने जिद पकड़ ली
"पापा मुझे साइकिल चाहिये....."
पापा ने कहा "अगले महीने होली
पर जरुर साईकल लाउंगा !"
प्रॉमिस !
.......
......
एक महीने बाद... पापा ,
मुझे साइकिल चाहिये आपने
प्रॉमिस किया था ... !
वह चुप रहे ...
......
....
शाम को दफ्तर से लौटे
बेटी तितली की तरह खुश हुई
वाह ! थॅंक्स पापा ,
मेरी साइकिल के लिये
अगले दिन....पापा !
आपकी उंगली की सोने की
अंगूठी कहाँ गई …….?
......
.....
बेटा ! सच बोलूँगा कल ही बेच दी
तुम्हारी साइकिल के लिये .....!
बेटी रोते हुए ,पापा !
पैसों की इतनी दिक्कत थी तो मत
लाते "नहीं खरीदता तो मेरी प्रॉमिस
टूटती तुम्हे फिर मेरे किसी वादे पे
विश्वास नहीं होता .
....
....
तुम यही समझती कि प्रॉमिस तोड़ने
के लिये किये जाते है!
मेरी अंगूठी दूसरी आ जायेगी
मगर टूटा हुवा विश्वास, छूटा हुवा
बचपन दोबारा नहीं लौटेंगे"
......
....
"ऐसे ही होते है हम सब के पापा
जो हम लोग की खुशी के लिये
अपनी जरूरत भी त्याग देते है"
यह कहानी ने आप के दिल को छुआ हो तो
लाईक व शेयर जरूर करे और कहानी आप
को कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताय

[01/30/16]   उस देश में औरत का रुतबा और
सम्मान कैसे बुलंद हो सकता हैं,
जहाँ मर्दो की लड़ाई में गालियाँ
माँ-बहनो को दी जाती है...!!

[01/30/16]   Maa kaash mai aj school na jaata,
Shayad tumhe phir se dekh pata
Teri awaz sunney ko kaan taras rahe hai,
Dekho na maa baarudo k gole baras rahe hai
Saare baache apni apni maa ko pukar rahe hai,
Maa ye log hume kyu maar rahe hai
Tiffin me di tumari roti bhi nai khaai hai,
Maa aaj golio ne meri bhuk mitaai hai
Papa se kehna ab mujhe school lene na aaye,
Dekh nahi paunga unhe mera taboot uthaaye
Mere jaane se apna hausla mat khona,
Maa mujhse bichhad kar tum mat rona
Mere khilone ,meri kitabe , mera basta,
Janta hu teri aankhe dekhti rahegi roz mera rasta
bhaiyya se kehna uska sathi rooth gaya hai,
bachpan ka humara sath chhott gaya hai
Didi se kehna mere liye aansu na bahaye,
Roz meri tasveer ko chota sa phhol chadaye
Teri yaado me, khwabo me, zikr me, reh jaunga,
Maa mai ab kabhi wapas nahi aaunga…
Maa mai ab kabhi wapas nahi aaunga

14/01/2016

SHREE Ganesh Tifin & Catring

https://www.facebook.com/SHREE-Ganesh-Tifin-Catring-1717516391803567/?ref=ts&fref=ts

All type of tifin and catering service is available in CHANDRAPUR

14/01/2016

उस दिन अनोखी विदाई देखी

पिता हर पिता की तरह ही थे
दामाद के दोनों हाथ थामे
भीगे स्वर में अनुरोध कर रहे
नाज़ों से पली बेटी है मेरी
सदा खुश रखना इसे....

उस एक क्षण जाने क्या बीता कि
सजल नैनों से बेटी ने पिता को देखा
उनके पसीजे हाथ अपने हाथों में लेकर बोली
मेरी खुशियाँ इतनी असहाय नहीं है पापा
कि उनके लिए आपको यूँ याचना करना पड़े..

मैं खुश रहूगी पापा
कि मेरी ख़ुशी की जिम्मेदारी मेरी है
किसी की अनुकम्पा पर आश्रित नहीं हैं वे
अपनी खिलखिलाहटों पर स्वामित्व मैं स्वयं करुगी...

प्रतीक्षारत नहीं हैं मेरी खुशियाँ
कि कोई आये और झोली में डाले..
सक्षम हूँ मैं
स्वयं समेट लूगी..

और हाँ अभिनय नहीं करुगी खुश रहने का
बगैर समझौते चुनूगी खुशियाँ
ये वादा है एक बेटी का...

गदगद हो गये पिता
अभिमान से आंखे झिलमिला उठी
बस इतना ही कह पाये
अनंत खुशियाँ बटोर
और उतनी ही बिखेर...

08/01/2016

हर रोज यहाँ संस्कारों को ताक पर रख कर,
बलात् हीं इंसानियत की हदों को तोड़ा जाता है|

नारी-शरीर को बनाकर कामुकता का खिलौना,
स्त्री-अस्मिता को यहाँ हर रोज़ हीं रौंदा जाता है|

कर अनदेखा विकृत-पुरुष-मानसिकता को यह समाज,
लड़कियों के तंग लिबास में कारण ढूंढता नज़र आता है|

मानवाधिकार के तहत नाबालिग बलात्कारी को मासूम बता,
हर इलज़ाम सीने की उभार और छोटी स्कर्ट पर लगाया जाता है|

दादा के हाथों जहाँ रौंदी जाती है छः मास की कोमल पोती,
तीन वर्ष की नादान बेटी को बाप वासना का शिकार बनाता है|

सामूहिक बलात्कार से जहाँ पाँच साल की बच्ची है गुजरती,
अविकसित से उसके यौनांगों को बेदर्दी से चीर दिया जाता है|

शर्म-लिहाज और परदे की नसीहत मिलती है बहन-बेटियों को,
और माँ-बहन-बेटी की योनियों को गाली का लक्ष्य बनाया जाता है|

स्वयं मर्यादा की लकीरों से अनजान, लक्ष्मण रेखा खींचता जाता है|
बेगैरत सा यह समाज सब लड़कियों को ही सारी हदें बताता

07/01/2016

आप और हम उस चेहरे को देखकर शायद सहम जाएं, पर पीहू नाम की बच्ची के लिए वो दुनिया का सबसे खूबसूरत चेहरा है। तेजाब हमले की शिकार लक्ष्मी अब मां बन गई हैं। पीहू उनकी बेटी है। जो अब सात महीने की हो गई है। और लक्ष्मी फिर से तेजाब हमले की शिकार लड़कियों की लड़ाई से जुड़ गई हैं। पहली बार उन्होंने बेटी की कहानी और फोटो दुनिया से बांटी।
लक्ष्मी और आलोक ढाई साल से लिव-इन-रिलेशनशिप में हैं। दोनों ने शादी नहीं की, पर साथ रहने का फैसला किया। सात महीने पहले पीहू का जन्म हुआ। आलोक कहते हैं, “पीहू की पूरी जिम्मेदारी लक्ष्मी उठाती है। ऐसे में लड़कियों को अकेले पेरेंट बनने का हक मिलना चाहिए। हम पीहू की परवरिश बिल्कुल अलग होगी।”
एसिड अटैक का शिकार बने चेहरों को देखकर नहीं डरती पीहू
अभी भी पीहू का ज्यादातर वक्त तेजाब पीड़ितों के लिए काम करने वाली संस्था ‘स्टॉप एसिड अटैक कैंपेन’के ऑफिस ‘छांव’में बीतता है। एसिड से जले चेहरों को देखकर वह बिल्कुल नहीं डरती। लक्ष्मी को देखे बिना उसका कोई काम होता ही नहीं। मुस्कुराहट भी मां को देखकर और रोने लगे तो चुप भी मां को ही देखकर होती है।
एक डर जो अब खुशी में बदल गया
आलोक कहते हैं, “प्रेग्नेंसी के दौरान लक्ष्मी डरती थी कि बच्चा उसका चेहरा देख डर तो नहीं जाएगा। रोती भी थी। उसे समझाया कि उनकी बेटी आम बच्चों जैसी नहीं है जो तेजाब पीड़ितों को देख भूत-भूत चिल्लाए। वो गर्व करेगी कि उसकी मां लक्ष्मी हैं।” लक्ष्मी बताती हैं ‘बेटी ने जरा भी दर्द नहीं दिया। डिलेवरी भी नॉर्मल हुई।’ लक्ष्मी अभी लखनऊ में शुरू होने वाले शीरोज कैफे का प्रोजेक्ट देख रही हैं। इसे तेजाब पीड़ितों द्वारा चलाया जाएगा। अगले माह उद्घाटन होगा। पीहू भी हर प्रोजेक्ट पर मम्मी के साथ जाती है।
कौन हैं लक्ष्मी?
लक्ष्मी 16 साल की थीं तब (2005 में) उन पर एसिड अटैक हुआ था। उन्हीं की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने एसिड की खुली बिक्री पर रोक लगाने का आदेश दिया। 2014 में मिशेल ओबामा ने लक्ष्मी को ‘इंटरनेशनल वुमन ऑफ करेज’अवॉर्ड से सम्मानित किया।

05/01/2016

#हर_बहू_नालायक_नहीं_होती_है....
(हर उस बहु को समर्पित जिसके ह्रदय में अपनी सास के लिए आदर और स्नेह है)
बेटा-बहु अपने बैडरूम में बातें कर रहे थे। द्वार खुला होने के कारण उनकी आवाजें बाहर कमरे में बैठी माँ को भी सुनाई दे रहीं थीं।
बेटा---" अपने job के कारण हम माँ का ध्यान नहीं रख पाएँगे, उनकी देखभाल कौन करेगा ? क्यूँ ना, उन्हें वृद्धाश्रम में दाखिल करा दें, वहाँ उनकी देखभाल भी होगी और हम भी कभी कभी उनसे मिलते रहेंगे। "
बेटे की बात पर बहु ने जो कहा, उसे सुनकर माँ की आँखों में आँसू आ गए।
.
.
.
.
.
.
बहु---" पैसे कमाने के लिए तो पूरी जिंदगी पड़ी है जी, लेकिन माँ का आशीष जितना भी मिले, वो कम है। उनके लिए पैसों से ज्यादा हमारा संग-साथ जरूरी है।
मैं अगर job ना करूँ तो कोई बहुत अधिक नुकसान नहीं होगा।
मैं माँ के साथ रहूँगी।
घर पर tution पढ़ाऊँगी,
इससे माँ की देखभाल भी कर पाऊँगी।
याद करो, तुम्हारे बचपन में ही तुम्हारे पिता नहीं रहे और घरेलू काम धाम करके तुम्हारी माँ ने तुम्हारा पालन पोषण किया, तुम्हें पढ़ाया लिखाया, काबिल बनाया।
तब उन्होंने कभी भी पड़ोसन के पास तक नहीं छोड़ा, कारण तुम्हारी देखभाल कोई दूसरा अच्छी तरह नहीं करेगा,
और तुम आज ऐंसा बोल रहे हो।
तुम कुछ भी कहो, लेकिन माँ हमारे ही पास रहेंगी,
हमेशा, अंत तक। "
बहु की उपरोक्त बातें सुन, माँ रोने लगती है और रोती हुई ही, पूजा घर में पहुँचती है।
ईश्वर के सामने खड़े होकर माँ उनका आभार मानती है और उनसे कहती है---" भगवान, तुमने मुझे बेटी नहीं दी, इस वजह से कितनी ही बार मैं तुम्हे भला बुरा कहती रहती थी,
लेकिन
ऐसी भाग्यलक्ष्मी देने के लिए
तुम्हारा आभार मैं किस तरह मानूँ...?
ऐसी बहु पाकर, मेरा तो जीवन सफल हो गया, प्रभु। "

[01/04/16]   USTAV सृजनाचा, स्त्री जन्माचा, उत्सव स्त्री अस्तित्वाचा, सावित्रीच्या जन्माचा जिच्यामुळे आज असंख्य स्त्रिया लिहू -- वाचू शकल्या.
आपल अस्तित्व -- कर्तृत्व सिद्ध करू शकल्या.
त्या आद्य स्त्री शिक्षण प्रणेत्या सावित्रीबाई ज्योतीराव फुले यांना जयंती निमित्त विनम्र अभिवादन. ...!

[12/28/15]   टियाँ तो बेटियाँ है
कच्ची कच्ची मटकियाँ
टूट जायेगी एक दिन
दिल अगर जो उनको तोडा है
बिटियाँ रानी नदी सुहानी
मीठे पानी की गंगा है
छोड़ बाबुल की बगियाँ
उसे पिया संग होना है
राखी का अटूट रिश्ता है बेटियाँ
लक्ष्मी, दुर्गा,सरश्वती है बेटियाँ
मन की डगरी सुनी हो जाती है
जब छोड़ के जाती है बेटियाँ
कोमल मुलायम हाथों वाली
मनमोहक मनोरम रूप वाली
सुने घर की आवाज है बेटियाँ
परिवार का निर्माण है बेटियाँ
बेटी एक धर्म है
भाई की बहन है
माँ की सहेली है बेटियाँ
पिता की प्यारी होती है बेटियाँ

23/12/2015

Timeline Photos

[12/23/15]   याद होगा सब को 3 साल पहले चुपके से निर्भया का अंतिम संस्कार किया गया था और आज चुपके से उसके गुनहगार को रिहा कर दिया .. ये हार निर्भया के माँ बाप की नहीं हम सब की हार है .. उस से भी शर्म की बात कोई है तो ये की केजरीवाल इस पर भी राजनीती करने से बाज नहीं आया ..

[12/22/15]   एक बच्चे ने अपनी माँ को रोते
देखा तो पापा से
पुछा माँ क्यो रोती है.??

पापा ने जवाब
दिया सारी औरते बिना बात के
रोती है..!!

बच्चा कुछ समझ ना पाया और
वो बड़ा हो गया..!!

एक दिन उसने भगवान से
पूछा कि औरते
क्यो रोती है
बिना बात के..?

भगवान ने जवाब दिया-
जब मै औरत को बना रहा था,
तो मैने
फैसला किया कि उसे
कुछ खास
बनाना हैं..!!

मैने उसके कँधे मजबूत बनाये,
ताकि वह
दुनियादारी का बोझ
उठा सके।

उसके बाहो को कोमल बनाया,
ताकि बच्चो को आराम
महसूस हो सके।

मैने उसे इतनी आत्मशक्ति दी,
ताकि वह नये जीव
को धरती पर
ला सके ।

मैने उसे साहसी बनाया,
ताकि मुशकिल वक्त मे वह
चट्टान
की तरह
खड़ी रहे और अपने
परिजनो का ख्याल रख सके।

मैने उसे संवेदनशील और
विवेकी बनाया,
ताकि वह सबकी मदद कर सके
और माफ कर सके।

और वह समझदार इतनी कि उसने
आंखों के
आसुओं से
अपने दुख को कम
करने का काम भी स्वयं ही कर
लिया..!!

बेहतर है, ईश्वर की बेहतरीन
रचना को कभी भी दु:ख ना पहुंचाये..!!

पोस्ट पूरी पढ़ते ही लाइक करेँ..
आखिरी पोस्ट है,

[12/21/15]   जरुर पढ़े
😊

एक गरीब परिवार में एक सुन्दर सी बेटी👰 ने जन्म लिया..बाप दुखी हो गया बेटा पैदा होता तो कम से कम काम में तो हाथ बटाता,,उसने बेटी को पाला जरूर,मगर दिल से नही....वो पढने जाती थी तो ना ही स्कूल की फीस टाइम से जमा करता,और ना ही कापी किताबों पर ध्यान देता था...अक्सर दारू पी कर घर में कोहराम मचाता था........उस लडकी की मॉ बहुत अच्छी व बहुत भोली भाली थी वो अपनी बेटी को बडे लाड प्यार से रखती थी..वो पति से छुपा-छुपा कर बेटी की फीस जमा करतीऔर कापी किताबों का खर्चा देती थी..अपना पेट काटकर फटे पुराने कपडे पहनकर गुजारा कर लेती थी,मगर बेटी का पूरा खयाल रखती थी...पति अक्सर घर से कई कई दिनों के लिये गायब हो जाता था.जितना कमाता था दारू मे ही फूक देता था...वक्त का पहिया घूमता गया""""बेटी धीरे-धीरे समझदार हो गयी..दसवीं क्लास में उसका एडमीसन होना था.मॉ के पास इतने पैसै ना थे जो बेटी कास्कूल में दाखिला करा पाती..बेटी डरडराते हुये पापा से बोली:पापा मैं पढना चाहती हूं मेरा हाईस्कूल में एडमीसन करा दीजिए मम्मी के पास पैसै नही है...बेटी की बात सुनते ही बाप आग वबूला हो गया और चिल्लाने लगा बोला: तू कितनी भी पड लिख जाये तुझे तो चौका चूल्हा ही सम्भालना है क्या करेगी तू ज्यादा पड लिख कर..उस दिन उसने घर में आतंक मचाया व सबको मारा पीटाबाप का व्यहार देखकर बेटी ने मन ही मन में सोच लिया कि अब वो आगे की पढाईनही करेगी....एक दिन उसकी मॉ बाजार गयीबेटी ने पूछा:मॉ कहॉ गयी थीमॉ ने उसकी बात को अनसुना करते हुये कहा :बेटी कल मै तेरा स्कूल में दाखिला कराउगीबेटी ने कहा: नही़ं मॉ मै अब नही पडूगी मेरी वजह से तुम्हे कितनी परेशानी उठानी पडती है पापा भी तुमको मारते पीटते हैं कहते कहते रोने लगी..मॉ ने उसे सीने से लगाते हुये कहा: बेटी मै बाजार से कुछ रुपये लेकर आयी हूं मै कराउगी तेरा दखिला..बेटी ने मॉ की ओर देखते हुये पूछा: मॉतुम इतने पैसै कहॉसे लायी हो??मॉ ने उसकी बात को फिर अनसुना कर दिया...वक्त वीतता गया""""मॉ ने जी तोड मेहनत करके बेटी को पढाया लिखायाबेटी ने भी मॉ की मेहनत को देखते हुये मन लगा कर दिन रात पढाई कीऔर आगे बडती चली गयी......."""""""""""""""""""""इधर बाप दारू पी पी कर बीमार पड गयाडाक्टर के पास ले गयेडाक्टर ने कहा इनको टी.बी. है""""""""एक दिन तबियत ज्यादा गम्भीर होने परबेहोशी की हालत में अस्पताल में भर्ती कराया..दो दिन बाद उस जबे होश आया तो डाक्टरनी का चेहरा देखकर उसके होश उड गयेवो डाक्टरनी कोई और नही वल्कि उसकीअपनी बेटी थी..शर्म से पानी पानी बापकपडे से अपना चेहरा छुपाने लगाऔर रोने लगा हाथ जोडकर बोला: बेटी मुझे माफ करना मैं तुझे समझ ना सका...दोस्तों बेटी आखिर बेटी होती है,,,,,,,,बाप को रोते देखकर बेटी ने बाप को गले लगा लिया..""""""दोस्तों गरीबी और अमीरी से कोई फर्कनहीं पडता,,अगर इन्सान का इरादा हो तो आसमान में भी छेद हो सकता हैकिसी ने खूब कहा //"कौन कहता है कि आसमान मे छेद नही हो सकता,,अरे एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों""""एक दिन बेटी माँ से बोली: माँ तुमने मुझे आजतक नहीं बताया कि मेरे हाईस्कूल के एडमीसन के लिये पैसै कहाँ से लायी थी??बेटी के बार बार पूछने परमाँ ने जो बात बतायीउसे सुनकरबेटी की रूह काँप गयी....माँ ने अपने शरीर का खून बेच कर बेटी का एडमीसन कराया था....दोस्तों तभी तो मॉ को भगवान का दर्जा दिया गया हैमाँ जितना औलाद के लिये त्याग कर सकती हैउतना दुनियाँ में कोई और नही..दो पंक्तियाँ माँ के लिये::::गोदी में मुझको सुलाया है माँ ने,,बडे प्यार से अपनी मीठी जुवॉ से,बेटा कह कर बुलाया है माँ ने,,मुझको लेके अपनी नरम बाजुओं मे,मोहब्बत का झूला झुलाया है माँ ने,,सभी जख्म अपने सीने पे लेके,हर चोट से बचाया है माँ ने,,कभी मेरे माथे पे काला टीका लगा के,यूं बचपन में मुझको सजाया है माँ ने,,यूं चेहरा दिखा के मुझे रोज अपना,मुझे मेरे रव से मिलाया है माँ ने,,ऐ इन्सॉ तू जो इतना इतरा के चलता है,काबिल तुझे इसके बनाया है माँ ने,,
😊
😊
😊
😊

दोस्तों आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमे अवश्य बताएं और अधिक से अधिक शेयर करके अपने दोस्तों को भी पढ़वाये ।
😊

15/12/2015

Save girl child's cover photo

15/12/2015

Save girl child

15/12/2015

SAVE GIRL CHILD

[12/10/15]   एक बार जरूर पढे.......
Girl :- एक खुशखबरी है
Boy :- क्या ????
Girl :- मैं प्रेग्नेंट हूँ।
Boy :- Girl को
एक्सेप्ट नही
करता है....!
क्योंकि Girl उसके लिए
सिर्फ...
टाइम पास थी....
Boy:- Girl तुम हर
बार कॉलेज में..
टॉप 4 में आती हो...
और इस बार भी तुम टॉप
4 में होगी
पर मेरे घर के लिए एक
सिंपल
लड़की चाहिए..!
Girl :- ठीक है दो दिन
बाद
तेरे घर पे आउंगी..!
मम्मी से मिलने...
मुझे थोड़ा काम है..
दो दिन बाद....
लड़के को लगता है...
Girl सब कुछ बता देगी
माँ को....
Boy :- मुझे माफ़ कर दो...
सब मेरी गलती है
Girl :- ठीक है...
कोई बात नहीं...
पर मुझे माँ से मिलना है
Boy :- माँ से बाद में
मिल लेना...
अभी देख मैं तेरे लिए क्या
लाया हुँ...
(Boy उसके लिए आइस-क्रीम
लेकर
जाता है)
Boy ने आइस-क्रीम में ज़हर
मिलाया था...
क्योंकि वो नही चाहता
था की girl
माँ से मिले।
Girl आइस-क्रीम खा
लेती है।
और मर जाती है।
और एक लेटर लिख कर
जाती है।
मुझे पता था आइस-क्रीम में जहर है
फिर भी तुम्हारी खुशी के
खातिर मैंने जहर खा
लिया ।
मैं तुम से प्यार करती थी
तुम पर
बोझ नही बनाना
चाहती थी।
Aalways keep Smiling....
I Thing It's Make U
Happy
कुछ दिन बाद रिजल्ट
आया तो
लड़की फेल हो जाती है।
ये देख कर लड़का अपने आँसू
नही रोक पाता है।
उसे एहसास होता है क़ि
उसने
क्याखो दिया।
Respect_ur_Love
किसी से प्यार करो तो
प्लीज उसको
निभाओ किसी के दिल से
खेल कर
उसके प्यार का मजाक मत
बनाओ
इस कहानी ने आप के दिल
को छुआ हो
तो लाईक जरूर करें
और
कहानी Aap को Kaisi लगी Zarur Bataye..
Jaroori nhi hr kahani sacchi ho kuch kahaniya hme kuch sabak deti h.
Please don't use girls.

[12/09/15]   एक बच्चे ने अपनी माँ को रोते
देखा तो पापा से
पुछा माँ क्यो रोती है.??

पापा ने जवाब
दिया सारी औरते बिना बात के
रोती है..!!

बच्चा कुछ समझ ना पाया और
वो बड़ा हो गया..!!

एक दिन उसने भगवान से
पूछा कि औरते
क्यो रोती है
बिना बात के..?

भगवान ने जवाब दिया-
जब मै औरत को बना रहा था,
तो मैने
फैसला किया कि उसे
कुछ खास
बनाना हैं..!!

मैने उसके कँधे मजबूत बनाये,
ताकि वह
दुनियादारी का बोझ
उठा सके।

उसके बाहो को कोमल बनाया,
ताकि बच्चो को आराम
महसूस हो सके।

मैने उसे इतनी आत्मशक्ति दी,
ताकि वह नये जीव
को धरती पर
ला सके ।

मैने उसे साहसी बनाया,
ताकि मुशकिल वक्त मे वह
चट्टान
की तरह
खड़ी रहे और अपने
परिजनो का ख्याल रख सके।

मैने उसे संवेदनशील और
विवेकी बनाया,
ताकि वह सबकी मदद कर सके
और माफ कर सके।

और वह समझदार इतनी कि उसने
आंखों के
आसुओं से
अपने दुख को कम
करने का काम भी स्वयं ही कर
लिया..!!

बेहतर है, ईश्वर की बेहतरीन
रचना को कभी भी दु:ख ना पहुंचाये..!!

पोस्ट पूरी पढ़ते ही लाइक करेँ..
आखिरी पोस्ट है,
'' माँ '' के लिए एक लाइक तो बनता है..

Location

Telephone

Address


GAJAN MANDIR ROAD SNEHA NAGAR CHANDRAPUR
Chandrapur
Other Chandrapur schools & colleges (show all)
Smash-On Dj Academy Smash-On Dj Academy
Vitthal Mandir Ward Chandrapur
Chandrapur, 442401

Ballarpur Pvt.  ITI Ballarpur, Chandrapur Ballarpur Pvt. ITI Ballarpur, Chandrapur
87
Chandrapur

Ballarpur Industrial Training Centre (BITC) Ballarpur. Private ITI College with 6 Trade . Copa, Diesel Mechanic, Wireman, Electrician, Fitter and Instrumentation.

Rajiv Gandhi College of Engineering, Research & Technology,Chandrapur Rajiv Gandhi College of Engineering, Research & Technology,Chandrapur
Ballarpur Road, Babupeth, Chandrapur
Chandrapur, 442403

Best engg college.....to live life and to take degree

Kesari Vidyalaya, Chandrapur Kesari Vidyalaya, Chandrapur
Raj Vilas Sadan, Old Warora Naka
Chandrapur, 442401

Kesari Vidyalaya, an educational institute, imparting values intellect and discipline into its students tirelessly since 1999.

Civil Engineering Analysis & Design Academy, chandrapur Civil Engineering Analysis & Design Academy, chandrapur
Front Of Tukum Gurudwara Near Peace Park
Chandrapur, 442401

This is one an only Academy whose All civil Engineering subject courses and software courses are taken.

Brilliant's Academy Chandrapur Brilliant's Academy Chandrapur
Kesharinandan Nagar Tadoba Road
Chandrapur, 442402

A Play School

S.S.P.C Ex Students S.S.P.C Ex Students
Opp. Hotel Tristar, Nagpur Road,
Chandrapur, 442401.

Matoshri Vidyalaya Matoshri Vidyalaya
Late Adv. B. S. Khanke Premises, Yamuna Nagar, Tadoba Road, Tukum
Chandrapur, 442401

Gondwana Shikshan Prasarak Mandal's -Matoshri Upper Primary, Secondary and Higher Secondary School, Tukum, Chandrapur

Jnata jr.collage gondpipari Jnata jr.collage gondpipari
At Post Dhaba Tah Gondpipari Dist Chandrapur
Chandrapur, 442701

Its page can connected with all those frnd....

Kesari Vidyalaya Kesari Vidyalaya
Civil Lines
Chandrapur, 741502

A School run by Madhav Shikshan Prasarak Mandal.Chandrapur, play school pre primary and primary school, Civil lines chandrapur,

Vidya Niketan High School, Chandrapur. Vidya Niketan High School, Chandrapur.
Nagpur Road, Chandrapur
Chandrapur, 442402

Vidya Niketan means Home of Knowledge. It expresses the same quality of affection towards the students as would be evident in any home towards the children